Thursday, January 28, 2021
8 C
Delhi

बातचीत से ही किसानों की समस्याओं का समाधान संभव: उपराष्ट्रपति

खाद्य सुरक्षा और राष्ट्र की प्रगति कृषि पर ही आधारित है : उपराष्ट्रपति

Must read

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...

मैं अपनी पीढ़ी को आइटम डांस से बचाना चाहती हूं : दूर्बा सहाय

रेणुका, कथक गुरु भावना सरस्वती की शिष्या, ने उनसे सीखे नृत्य में एक नया आयाम जोड़ना शुरू किया। इसने भावना को एक असुरक्षा और...

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने आज कहा कि किसानों द्वारा उठाए जा रहे सभी मुद्दों का हल बातचीत के जरिए ही निकल सकता है।

हैदराबाद में अपने निवास पर किसान दिवस के अवसर पर प्रगतिशील किसानों के एक दल से भेंट करते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा कि किसी भी मुद्दे काहल बातचीत के जरिये ही निकाला जा सकता है और साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने पहले ही बता दिया है कि वो किसान संगठनों के साथ संवाद के लिए सदैव तैयार है।

किसान दिवस पर उन्होंने कहा कि देश की प्रगति और खाद्य सुरक्षा कृषि पर निर्भर हैं, अतः ज़रूरी है कि कृषि को टिकाऊ और लाभकारी बनाया जाये।

किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए सरकार द्वारा उठाए कदमों की चर्चा करते हुए नायडू ने कृषि की उत्पादकता बढ़ाने और उसे मौसम परिवर्तन से निरापद बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने फसल विविधीकरण, जैविक खेती को बढ़ाने पर भी जोर दिया।

इस संदर्भ में उन्होंने कोल्ड स्टोरेज सुविधाओं, कृषि माल ढुलाई तथा कृषि विपणन के लिए जरूरी कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की आवश्यकता पर बल देते हुए कहा कि ई-नाम से कृषि उत्पादों के लिए वृहत्तर बाज़ार उपलब्ध हो सकेगा।

मैनेज (एमएएनएजीई) द्वारा किए गए एक अध्ययन को उद्धृत करते हुए उपराष्ट्रपति ने किसानों से आमदनी के अन्य साधन खोजने का आग्रह किया। अध्ययन के अनुसार जिन इलाकों में किसान संबद्ध गतिविधियों और मुर्गी पालन व्यवसाय से जुड़े है वहां किसानों द्वारा आत्महत्या किए जाने की घटनाएं नहीं हुई हैं।

कोविड-19 महामारी के दौरान भी खाद्यान्न का रिकॉर्ड उत्पादन करने के लिए नायडू ने किसानों की सराहनाकी।

किसानों ने भी उपराष्ट्रपति के साथ अपने अनुभव साझा किए।

उन्होंने बताया कि शुरुआती झिझक के बाद जैविक और प्राकृतिक खेती को अपनाने के बाद वे काफी खुश है क्योंकि उन्हें कृषि में विविधीकरण से काफी लाभ मिल रहा है। अब ये किसान कृषि की पारंपरिक पद्धति अपना रहे हैं। उन्होंने बताया कि पारंपरिक खेती को टेक्नोलॉजी के साथ मिलाने के बाद, कम लागत पर अधिक पैदावार से उनके लाभ में भी इजाफा हुआ है। उन्होंने बाज़ार की उपलब्धता को सबसे जरूरी बताया।

भेंट करने वाले किसानों में कुरनूल जिले के श्बायरापक्ष राजू 500 प्रकार के बीजों की खेती करते हैं तथा सोशल मीडिया के माध्यम से अन्य किसानों को सलाह भीदेते हैं।

वहीं के किसान दम्पत्ति लावण्या रेड्डी तथा रमन रेड्डी जैविक विधि से धान और दलहन की खेती करते हैं और स्वयं ही उसे बेचते भी है।

रंगारेड्डी जिले के सुखवासी हरीबाबू फल, सब्जी और औषधीय पौधे उगाते हैं।

इस भेंट के अवसर पर पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित तथा रायथू नेष्ठाम के संपादक येदलापति वेंकटेश्वर राव भी उपस्थित रहे।

इससे पहले आज किसान दिवस के अवसर पर उपराष्ट्रपति ने देश की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी किसानों का अभिनंदन किया और शुभकामनाएं दीं।

Sourcepib
- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...

मैं अपनी पीढ़ी को आइटम डांस से बचाना चाहती हूं : दूर्बा सहाय

रेणुका, कथक गुरु भावना सरस्वती की शिष्या, ने उनसे सीखे नृत्य में एक नया आयाम जोड़ना शुरू किया। इसने भावना को एक असुरक्षा और...

“फोन को नीचे रखिए, और फिर से प्रेम पत्र लिखना शुरू करिए”: फ़िल्म ‘एन इम्पॉसिबल प्रोजेक्ट’

अपने फोन नीचे रखे दो और अपना डिजिटल डिटॉक्स होने दो। ये वो असंभव सा लगने वाला आह्वान है जो एक जर्मन...