Thursday, January 28, 2021
9.3 C
Delhi

गुरुग्राम में हुआ नारी व्यथा पर आधारित शॉर्ट फिल्म ‘ मांस ‘ का प्रीमियर

Must read

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...

मैं अपनी पीढ़ी को आइटम डांस से बचाना चाहती हूं : दूर्बा सहाय

रेणुका, कथक गुरु भावना सरस्वती की शिष्या, ने उनसे सीखे नृत्य में एक नया आयाम जोड़ना शुरू किया। इसने भावना को एक असुरक्षा और...

बीते रविवार शाम को नारी व्यथा व सम्मान पर आधारित शॉर्ट मूवी ” मांस ” का प्रीमियर शो गुरुग्राम के सैक्टर 12 के विवेकानंद सभागार में प्रदर्शित किया गाया।
इस अवसर पर फिल्म की स्टार कास्ट के अतिरिक्त गुरुग्राम की कला जगत के कई कलाकारों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।
मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की मुंबई विख्यात कास्टिंग डायरेक्टर दीपक मेहरोत्रा ने जिन्होंने सुई धागा, लुका छिपी, टाइगर जिंदा है, ड्रीम गर्ल और ना जाने कितनी जानी मानी फिल्मों में कलाकारों को उभरने का मौका दिया। उन्होंने इस फिल्म को बेहद सराहा और कहा कि गुरुग्राम में कलाकारों की कोई कमी नहीं है।
आपको बता दें कि इस फिल्म में लगभग कलाकार गुरुग्राम से हैं व फिल्म की अधिकांश शूटिंग भी गुरुग्राम के आस पास की ही है।
इस शॉर्ट मूवी का निर्माण सि ने ट्रूप एंटरटेनमेंट के बैनर के तले हुआ है जिसकी स्थापना वर्ष 2017 में अभिनेता, निर्माता व निर्देशक प्रकाश घई ने की।
आपको बता दें कि प्रकाश ने इससे पहले दो शॉर्ट मूवी रेप व दिवा का भी निर्माण किया है। जिसमे इनकी फिल्म दिवा को 2018 में 7 फिल्म फेस्टिवल में दिखाया गया और सातवें इंटरनेशनल शॉर्ट फिल्म फेस्टिवल में सर्टिफिकेट ऑफ एक्सीलेंस के पुरस्कार से नवाजा गया।
बात की जाए उनकी शॉर्ट मूवी ‘ मांस ‘ की तो फिल्म कम समय में पिछड़े ग्रामीण आंचल में नारी के व्यथा व प्रताड़ना पर प्रहार करने में सफल साबित हुई। अति पिछड़े ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी नारी पर अत्याचारों की दास्तां जस की तस है।
फिल्म में मुख्य भूमिका में निभाई हर्ष वर्धन, खुशी राजपूत व कपिल कोहली ने। इसके अलावा इसमें मोहन कांत, विभा बलानी, डेज़ी सोंधी, युक्ति भानुका चौधरी, कुलदीप पंवार, संजय शर्मा व जयंत आदि कलाकारों ने भी काम किया।
प्रकाश घई ने नाटक कोर्ट मार्शल में प्रमोद मंगला के निर्देशन कर्नल सूरत सिंह का किरदार निभाया, टी वी सीरियल महक जिंदगी की व हरियाणवी फिल्म छोरियां छोरों से कम नहीं में नकारात्मक भूमिका निभाई।

पर्दे के पीछे – निर्माता निर्देशक प्रकाश घई, स ह निर्देशक अपूर्व भारद्वाज, एसोसिएट डायरेक्टर व लेखक प्रवेश राजपूत, संगीत चिनार music त्रिपाठी बंधु, गीतकार – नौशाद सरदार खान, गायन – पूजा वाचस्पति।

प्रकाश घई ने बताया कि वे कलात्मक फिल्मों के माध्यम से नारी व्यथा व समाज के प्रति अपने दायित्व को निभाते रहेंगे।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...

मैं अपनी पीढ़ी को आइटम डांस से बचाना चाहती हूं : दूर्बा सहाय

रेणुका, कथक गुरु भावना सरस्वती की शिष्या, ने उनसे सीखे नृत्य में एक नया आयाम जोड़ना शुरू किया। इसने भावना को एक असुरक्षा और...

“फोन को नीचे रखिए, और फिर से प्रेम पत्र लिखना शुरू करिए”: फ़िल्म ‘एन इम्पॉसिबल प्रोजेक्ट’

अपने फोन नीचे रखे दो और अपना डिजिटल डिटॉक्स होने दो। ये वो असंभव सा लगने वाला आह्वान है जो एक जर्मन...