Thursday, April 8, 2021
31.8 C
Delhi

प्रदर्शन के साथ प्रधानमंत्री के नाम सौपा ज्ञापन

Must read

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...

देश में प्रतिदिन 34 किलोमीटर हो रहा है राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 (22 मार्च, 2021 तक) 12,205.25 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण करके एक और मील का पत्थर हासिल किया है।इस अवधि...

समस्त प्रदेश में जारी विरोध प्रदर्शनों में ट्रेड यूनियन के आव्हान पर हरियाणा कर्मचारी महासंघ से संबंधित हरियाणा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड वर्कर्स यूनियन ने कर्मचारी विरोधी नीतियों के खिलाफ लघु सचिवालय सेक्टर-12 पर एकत्र होकर प्रदर्शन करते हुए फरीदाबाद के जिला उपायुक्त के माध्यम से एसडीएम रन विजय को देश के प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। विरोध प्रदर्शन करते हुए विभिन्न विभागों के कर्मचारी एचएसईबी वर्कर यूनियन के प्रदेश महासचिव सुनील खटाना के नेतृत्व में सरकार के खिलाफ नारेबाजी की जिसमे उन्होंने केन्द्र सरकार व प्रदेश की गठबंधन सरकार के खिलाफ अपना रोष जाहिर किया। कर्मचारियों के इस प्रदर्शन को संबोधित करते हुए महासचिव सुनील खटाना ने बताया कि केन्द्र व राज्य की गठबंधन सरकार कर्मचारी और मजदूर विरोधी नीति अपनाकर कार्य कर रही है। जबकि प्रदेश का कर्मचारी पिछले छह महीने से कोरोना महामारी में पूरी निष्ठा से शिद्दत के साथ जनहित के कामों में जुटा हुआ है। अपनी जान की भी परवाह ना करते हुए स्वास्थ्य, बिजली, जनस्वास्थ्य और परिवहन विभाग जैसी अत्यंत जरूरी सेवाओं को संभाल रहे है। इसके बावजूद प्रदेश सरकार आमजन मानुष से सीधे सरोकार रखने वाले इन महत्त्वपूर्ण विभागों को निजीकरण करने पर तुली है। प्रदेश में रोजगार का अभाव पहले से ही है। ऊपर से विभागों में लगे कर्मियों की आयेदिन छटनी की जा रही है। हाल ही में 1983 पीटीआई शारीरिक शिक्षकों को नौकरी से निकाल दिया गया  और जो पिछले कई दिनों से अनशन पर बैठे हैं। इनका समर्थन करते हुए यूनियन माँग करती है कि इन्हें बिना विलम्ब किये जल्द नौकरी पर लिया जाए।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...

देश में प्रतिदिन 34 किलोमीटर हो रहा है राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 (22 मार्च, 2021 तक) 12,205.25 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण करके एक और मील का पत्थर हासिल किया है।इस अवधि...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विश्व जल दिवस पर कैच द रेन का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 मार्च 2021 को विश्व जल दिवस के मौके पर जलशक्ति अभियान: कैच द रेन का शुभारंभ करेंगेI प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग/वर्चुअल...