Thursday, April 8, 2021
33 C
Delhi

बीती शाम गुरूग्राम में हुआ नाटक “भोला राम का जीव” का सफल मंचन

आज की सरकारी तंत्र पर व्यंग व कटाक्ष करने लेखक और निर्देशक दोनो सफल रहे।

Must read

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...

देश में प्रतिदिन 34 किलोमीटर हो रहा है राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 (22 मार्च, 2021 तक) 12,205.25 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण करके एक और मील का पत्थर हासिल किया है।इस अवधि...

ये कहानी भोला राम नाम के एक व्यक्ति की है जो सरकारी महकमे मे काम करता था लेकिन रिटायर होने के बाद उसकी पेंशन शुरू नहीं हो पाई थी। सरकारी तंत्र के इस मंत्र की उपापोह की जद्दोजहद में उसकी मृत्यु हो जाती है। यमदूत उसके जीव (आत्मा) को लेने आते हैं लेकिन वो उन्हें चकमा दे कर ग़ायब हो जाता है। यमराज “नारद जी” को उसे ढूँढ कर लाने के लिए कहते हैं।  नारद पृथ्वी-लोक पर उसे ढूँढने आते हैं और उनका सामना भ्रष्ट सरकारी व्यवस्था से होता है। वो देखते हैं मनुष्य अपने स्वार्थ को साधने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है।

नौटंकी शैली की ये प्रस्तुति सरकारी व्यवस्था पर व्यंग्य कसने के साथ ही जीवन के यथार्थ से भी परिचय करवाती है। आम आदमी के जीवन को ये भ्रष्ट सरकारी तंत्र किस तरह निचोड़ देता है को सही मायने दर्शाती इस कहानी के लेखक हैं हरि शंकर परसाई और इसका नाट्य रूपांतर व निर्देशन की भूमिका बखूबी निभाई अरुण मारवाह ने।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...

देश में प्रतिदिन 34 किलोमीटर हो रहा है राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 (22 मार्च, 2021 तक) 12,205.25 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण करके एक और मील का पत्थर हासिल किया है।इस अवधि...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विश्व जल दिवस पर कैच द रेन का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 मार्च 2021 को विश्व जल दिवस के मौके पर जलशक्ति अभियान: कैच द रेन का शुभारंभ करेंगेI प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग/वर्चुअल...