Monday, March 1, 2021
16.4 C
Delhi

चमोली के बाढ़ प्रभावित इलाके में 200 फीट के एक बैली पुल का निर्माण

Must read

प्रधानमंत्री 2 मार्च को मैरीटाइम इंडिया समिट-2021 का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2 मार्च को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 'मैरीटाइम इंडिया समिट 2021' का शुभारंभ करेंगे। मैरीटाइम...

इंडिया बुल्स सेंटरम पार्क सेक्टर 103 के आरडबल्यूए के चुनाव में मेजर जनरल की टीम विजयी

इंडिया बुल्स सेंटरम पार्क, सेक्टर 103 दौलताबाद गांव के समीप में हुए निवासी कल्याण संघ (आर डबल्यू ए) के हाल ही में...

हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड की चेयरमैन मालिक रोजी आनंद ने परिवार परामर्श केंद्र को कोविड सतर्कता संबंधी निर्देश दिए

बीती शाम को हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड की चेयरमैन मालिक रोजी आनंद ने गुरुग्राम के परिवार परामर्श केंद्र जो कि आदर्श रूरल...

सिद्ध पीठ माँ धारी देवी के डोला का 23 को गुरुग्राम में स्वागत

बहुत हर्ष के साथ आपको सूचित किया जा रहा है कि माँ धारी देवी का डोला, सिद्ध पीठ माँ धारी देवी...

7 फरवरी, 2021 को उत्तराखंड के चमोली जिले में नंदा देवी के ग्लेशियर का एक हिस्सा टूट गया जिससे हिमस्खलन हुआ और अलकनंदा नदी प्रणाली में बाढ़ आ गई जिसमें हाइड्रोइलेक्ट्रिक स्टेशन बह गए और कई कर्मचारी फंस गए। गंगा नदी की बड़ी सहायक नदियों में शामिल धौली गंगा, ऋषि गंगा और अलकनंदा नदी में अचानक दिन में आई बाढ़ से इस उच्च पर्वतीय क्षेत्र में बड़े पैमाने पर तबाही हुई और भय का माहौल बना।

इस आकस्मिक बाढ़ में ऋषि गंगा हाइडल परियोजना के ठीक नीचे और तपोवन हाइडल परियोजना के लगभग दो किलोमीटर ऊपर जोशीमठ-मलारी रोड पर स्थित 90 मीटर में फैला आरसीसी पुल भी बह गया जो कि नीति सीमा तक पहुंचने का एकमात्र रास्ता था। इस पुल के बह जाने से उत्तराखंड के चमोली जिले के 13 से अधिक सीमावर्ती गांवों में लोग फंस गए हैं।

इस स्थिति में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने बचाव और पुनर्वास के लिए 100 से अधिक वाहनों/उपकरणों और संयंत्रों के साथ तुरंत कार्रवाई शुरू की। इनमें पृथ्वी पर चलने वाले लगभग 15 भारी उपकरण शामिल हैं जैसे कि हाइड्रॉलिक उत्खनक, बुलडोजर, जेसीबी, व्हील लोडर्स आदि। सीमा सड़क संगठन ने भारतीय वायु सेना की मदद से भी महत्वपूर्ण हवाई उपकरणों को अपनी कार्रवाई में शामिल किया। प्रोजेक्ट शिवालिक के 21 बीआरटीएफ के लगभग 200 जवान इस बचाव और पुनर्वास कार्य के लिए तैनात किए गए हैं।

प्रारंभिक रेकी के बाद, बीआरओ ने सभी आवश्यक मोर्चों पर संपर्क पुनर्स्थापित करने के लिए कार्य शुरू कर दिया। दूर के किनारों पर खड़ी चट्टानों और दूसरी ओर 25-30 मीटर ऊंचे मलबे/ढेर के कारण यह स्थल काफी चुनौतीपूर्ण था। हालांकि बीआरओ ने इन चुनौतियों पर जीत हासिल कर ली है और चौथे दिन पुल के आधार-निर्माण के लिए रास्ता साफ कर लिया है। बीआरओ जल्द से जल्द 200 फीट बैली पुल को बनाकर दोबारा संपर्क स्थापित करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहा है। बीआरओ बचाव अभियान में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की सहायता भी कर रहा है। बीआरओ की शिवालिक परियोजना की कई टीमें इस क्षेत्र में बचाव अभियानों के लिए तैनात हैं।


- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

प्रधानमंत्री 2 मार्च को मैरीटाइम इंडिया समिट-2021 का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 2 मार्च को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से 'मैरीटाइम इंडिया समिट 2021' का शुभारंभ करेंगे। मैरीटाइम...

इंडिया बुल्स सेंटरम पार्क सेक्टर 103 के आरडबल्यूए के चुनाव में मेजर जनरल की टीम विजयी

इंडिया बुल्स सेंटरम पार्क, सेक्टर 103 दौलताबाद गांव के समीप में हुए निवासी कल्याण संघ (आर डबल्यू ए) के हाल ही में...

हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड की चेयरमैन मालिक रोजी आनंद ने परिवार परामर्श केंद्र को कोविड सतर्कता संबंधी निर्देश दिए

बीती शाम को हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड की चेयरमैन मालिक रोजी आनंद ने गुरुग्राम के परिवार परामर्श केंद्र जो कि आदर्श रूरल...

सिद्ध पीठ माँ धारी देवी के डोला का 23 को गुरुग्राम में स्वागत

बहुत हर्ष के साथ आपको सूचित किया जा रहा है कि माँ धारी देवी का डोला, सिद्ध पीठ माँ धारी देवी...

राष्ट्रीय सडक सुरक्षा माह का हुआ समापन

राष्ट्रीय सडक सुरक्षा माह का समापन कार्यक्रम साइबर हब्ब एम्फीथिएटर में आयोजित किया गया। कार्यक्रम का उद्देश्य सडकों को सुरक्षित बनाना था।...