Wednesday, May 12, 2021
34 C
Delhi

स्वाद गुरुग्राम का – सैनी टी स्टाल की चाय है लाजवाब

Must read

जीवन यापन के लिए 70 साल की बुजुर्ग महिला कोविड काल में फल बेचने को मजबूर

आज के समय में जहां कोरॉना की दूसरी लहर अपने रौद्र रूप में सभी आंकड़ों चाहे वो संक्रमण के हों या मृत्यु...

गढ़वाल सभा के संस्थापक सदस्य राम चंद्र शास्त्री का निधन

        गढ़वाल सभा रजि गुड़गांव के संस्थापक सदस्य एवं अध्यक्ष  हेमन्त बहुखण्डीं जी के पिता व अध्यापक राम चन्द्र शास्त्री जी का लंबे समय...

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

आज हम आपका परिचय अपने शहर गुरुग्राम के स्वाद से करवाने जा रहे हैं। हर शहर के कुछ स्थान संस्थान रेस्टोरेंट या फिर कोई चाय की दुकान मशहूर होता है इसी कड़ी में हम आज आपको बताने जा रहें है सैनी टी स्टाल के बारे में जो कि हमारे पुराने गुड़गांव में सदर बाजार में स्थित है। सैनी टी स्टाल पर सुबह चाय की चुस्की लगाने के कई लोग अपने मित्रों तो कुछ चाय के शौकीन अपने परिवार के साथ भी आने से नही चूकते हैं।कुछ लोग तो स्वाद स्वाद में दो तीन चाय कब पी जाते हैं पता ही नहीं चलता।
सैनी टी स्टाल की चाय के साथ साथ ब्रेड टोस्ट, आमलेट और बर्गर के आलावा काफी कुछ नाश्ते को शहर गुरुग्राम काफी लोग पसंद करते हैं। इसका पता तो आपको सैनी टी स्टाल पर व्यक्तिगत रूप से स्वयं जाकर ही चलेगा। स्वाद की बात करें तो लोग कई बार आधा घंटा भी इंतजार करते हुए भी मिल जायेंगे।अपने मित्रों के रोजाना आने वाले ए एस राणा से जब चाय के स्वाद के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया की सैनी की चाय लाजवाब है और वो बिन नागा रोज सैर के बाद दोस्तों के साथ चाय की चुस्की लेने आते हैं। इसी बहाने दोस्तों से मिलना और गप शप भी हो जाती है।

चाय पीने के लिए इंतजार करते ए एस राणा ( नीले रंग की जैकेट में) मित्रों के साथ
- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

जीवन यापन के लिए 70 साल की बुजुर्ग महिला कोविड काल में फल बेचने को मजबूर

आज के समय में जहां कोरॉना की दूसरी लहर अपने रौद्र रूप में सभी आंकड़ों चाहे वो संक्रमण के हों या मृत्यु...

गढ़वाल सभा के संस्थापक सदस्य राम चंद्र शास्त्री का निधन

        गढ़वाल सभा रजि गुड़गांव के संस्थापक सदस्य एवं अध्यक्ष  हेमन्त बहुखण्डीं जी के पिता व अध्यापक राम चन्द्र शास्त्री जी का लंबे समय...

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...