Thursday, January 28, 2021
9.3 C
Delhi

भारतीय उद्योगों की उत्‍पादकता तथा गुणवत्‍ता बढ़ाने के लिए कें ‘उद्योग मंथन’ वेबिनार की शुरुआत की गई

Must read

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...

मैं अपनी पीढ़ी को आइटम डांस से बचाना चाहती हूं : दूर्बा सहाय

रेणुका, कथक गुरु भावना सरस्वती की शिष्या, ने उनसे सीखे नृत्य में एक नया आयाम जोड़ना शुरू किया। इसने भावना को एक असुरक्षा और...

भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग, भारतीय उद्योगों में उत्‍पादकता तथा गुणवत्‍ता बढ़ाने के लिए भारतीय गुणवत्ता परिषद,राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद और अन्य उद्योग निकायों के साथ मिलकर विशेष वेबिनार मेराथॉन- ‘उद्योग मंथन’ का आयोजन कर रहा है। यह 4 जनवरी 2021 को शुरू हुआ और 2 मार्च 2021 तक चलेगा।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल कल 6 जनवरी 2021 के सत्र की अध्‍यक्षता करेंगे।

45 सत्रों वाली इस वेबिनार श्रृंखला में विनिर्माण और सेवाओं के विभिन्न प्रमुख भागों को शामिल किया जा रहा है। प्रत्येक वेबिनार में दो घंटे का सत्र होगा, जिसमें एक विशेष कार्यक्षेत्र में क्षेत्रीय तथा उद्योग विशेष के विशेषज्ञों के नेतृत्व में चर्चा होने का कार्यक्रम है। इस आयोजन में हिस्सा लेने वालों में उद्योग, परीक्षण और मानक निकायों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे। इसमें रुचि रखने वाले सभी लोगों के लिए इन सभी सत्रों को यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीम किया जाएगा।

‘उद्योग मंथन’ चुनौतियों तथा अवसरों की पहचान करेगा; समाधान और सर्वोत्तम प्रथाओं पर ध्यान आकर्षित कराएगा। यह वार्तालाप गुणवत्ता और उत्पादकता बढ़ाने के लिए उद्योगों तथा क्षेत्रों में सीखने के लिए सक्षम बनाएगा, साथ ही इसका उद्देश्य ‘वोकल फॉर लोकल’ को बढ़ावा देने के लिए ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण को साकार करना है।

पीयूष गोयल ने भारतीय उद्योग से गुणवत्ता और उत्पादकता में सुधार लाने पर ध्यान केंद्रित करने तथा इन पहलुओं पर मंथन सत्र शुरू करने का आह्वान किया है, जिससे देश को उच्च गुणवत्ता, कुशल निर्माता, व्यापारी और सेवा-प्रदाता के रूप में मान्यता मिल सके।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...

मैं अपनी पीढ़ी को आइटम डांस से बचाना चाहती हूं : दूर्बा सहाय

रेणुका, कथक गुरु भावना सरस्वती की शिष्या, ने उनसे सीखे नृत्य में एक नया आयाम जोड़ना शुरू किया। इसने भावना को एक असुरक्षा और...

“फोन को नीचे रखिए, और फिर से प्रेम पत्र लिखना शुरू करिए”: फ़िल्म ‘एन इम्पॉसिबल प्रोजेक्ट’

अपने फोन नीचे रखे दो और अपना डिजिटल डिटॉक्स होने दो। ये वो असंभव सा लगने वाला आह्वान है जो एक जर्मन...