Friday, April 9, 2021
20 C
Delhi

भारतीय उद्योगों की उत्‍पादकता तथा गुणवत्‍ता बढ़ाने के लिए कें ‘उद्योग मंथन’ वेबिनार की शुरुआत की गई

Must read

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...

देश में प्रतिदिन 34 किलोमीटर हो रहा है राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 (22 मार्च, 2021 तक) 12,205.25 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण करके एक और मील का पत्थर हासिल किया है।इस अवधि...

भारत सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत उद्योग संवर्धन और आंतरिक व्यापार विभाग, भारतीय उद्योगों में उत्‍पादकता तथा गुणवत्‍ता बढ़ाने के लिए भारतीय गुणवत्ता परिषद,राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद और अन्य उद्योग निकायों के साथ मिलकर विशेष वेबिनार मेराथॉन- ‘उद्योग मंथन’ का आयोजन कर रहा है। यह 4 जनवरी 2021 को शुरू हुआ और 2 मार्च 2021 तक चलेगा।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल कल 6 जनवरी 2021 के सत्र की अध्‍यक्षता करेंगे।

45 सत्रों वाली इस वेबिनार श्रृंखला में विनिर्माण और सेवाओं के विभिन्न प्रमुख भागों को शामिल किया जा रहा है। प्रत्येक वेबिनार में दो घंटे का सत्र होगा, जिसमें एक विशेष कार्यक्षेत्र में क्षेत्रीय तथा उद्योग विशेष के विशेषज्ञों के नेतृत्व में चर्चा होने का कार्यक्रम है। इस आयोजन में हिस्सा लेने वालों में उद्योग, परीक्षण और मानक निकायों के प्रतिनिधि भी शामिल होंगे। इसमें रुचि रखने वाले सभी लोगों के लिए इन सभी सत्रों को यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीम किया जाएगा।

‘उद्योग मंथन’ चुनौतियों तथा अवसरों की पहचान करेगा; समाधान और सर्वोत्तम प्रथाओं पर ध्यान आकर्षित कराएगा। यह वार्तालाप गुणवत्ता और उत्पादकता बढ़ाने के लिए उद्योगों तथा क्षेत्रों में सीखने के लिए सक्षम बनाएगा, साथ ही इसका उद्देश्य ‘वोकल फॉर लोकल’ को बढ़ावा देने के लिए ‘आत्मनिर्भर भारत’ के दृष्टिकोण को साकार करना है।

पीयूष गोयल ने भारतीय उद्योग से गुणवत्ता और उत्पादकता में सुधार लाने पर ध्यान केंद्रित करने तथा इन पहलुओं पर मंथन सत्र शुरू करने का आह्वान किया है, जिससे देश को उच्च गुणवत्ता, कुशल निर्माता, व्यापारी और सेवा-प्रदाता के रूप में मान्यता मिल सके।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन

नोमोश्कार !बांग्लादेश के राष्ट्रपतिअब्दुल हामिद जी,प्रधानमन्त्रीशेख हसीना जी, आप सभी का ये स्नेह मेरे जीवन के अनमोल पलों में से एक...

स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव – मोहित मदनलाल ग्रोवर

गुरुग्राम : "स्वतंत्रता के इतिहास में शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की वीरता व योगदान को शब्दों में वर्णित करना असंभव...

सिक्किम को फिल्मों के लिए सबसे ज्यादा अनुकूल राज्य का पुरस्कार

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों के निर्णायक मंडल (ज्युरी) ने सोमवार को वर्ष 2019 के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा की। पुरस्कारों की घोषणा से पहले...

देश में प्रतिदिन 34 किलोमीटर हो रहा है राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (एमओआरटीएच) ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 (22 मार्च, 2021 तक) 12,205.25 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्गों का निर्माण करके एक और मील का पत्थर हासिल किया है।इस अवधि...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी विश्व जल दिवस पर कैच द रेन का शुभारंभ करेंगे

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 मार्च 2021 को विश्व जल दिवस के मौके पर जलशक्ति अभियान: कैच द रेन का शुभारंभ करेंगेI प्रधानमंत्री वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग/वर्चुअल...