Thursday, January 28, 2021
19 C
Delhi

केंद्रीय मंत्री ने किया गाँव खैंटावास में जोहड़ उद्घाटन

Must read

अप्रैल से नवंबर, 2020 के दौरान प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आया 58.37 अरब डॉलर

आर्थिक विकास में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह बिना कर्ज लिए पूंजी जुटाने काएक महत्वपूर्ण स्रोतहै। सरकार का प्रयास रहा है...

केंद्रीय कृषि मंत्री ने वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम के सत्र को किया संबोधित

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायती राज और खाद्य प्रसंस्करण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर बुधवार को वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम द्वारा आयोजित '...

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने शनिवार को गांव खैंटावास में जीर्णोद्धार किए गए जोहड़ का वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उद्घाटन किया। इस मौके पर गांव में आयोजित कार्यक्रम में बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद ने विशिष्ट अतिथि के तौर पर शिरकत की। जोहड़ का जीर्णोद्धार गुरुजल परियोजना के तहत किया गया है।

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि घटता भूजल स्तर हम सभी के लिए चिंता का विषय है। ऐसे में जरूरी है कि हम जल संचयन के परंपरागत तरीकों को अपनाते हुए भूमिगत जल स्तर में सुधार लाने के लिए एकजुटता से प्रयास करें। उन्होंने कहा कि लगभग 20- 25 साल पहले गांव में जल संचयन के परंपरागत तरीके जैसे जोहड़ आदि होते थे जिससे वहां के स्थानीय लोगों का भी जीवन सुखद होता था। वे जोहड़ के पास कुआं बनाते थे और पानी का उपयोग करते थे। लेकिन आज यह सब चीजें लुप्त होती जा रही हैं, परिणाम स्वरूप भूमिगत जल स्तर में तेजी से गिरावट हो रही है। वर्तमान में यह समस्या शहरी क्षेत्र के आसपास बसे गांवों में अधिक है क्योंकि वहां घरों से निकलने वाला गंदा पानी जोहड़ों में डाला जाने लगा है जिससे जोहड़ों का पानी गंदा होने लगा और वे अपना पारंपरिक स्वरूप खोने लगे। गांव खेंटावास में शुरू किया गया यह जोहड़ जल संचयन की दिशा में अत्यंत महत्वपूर्ण है। देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी भी जल संरक्षण को लेकर अत्यंत गंभीर हैं और इसी के चलते उन्होंने जल शक्ति अभियान की शुरुआत की है। उन्होंने कहा कि यह बहुत ही हर्ष का विषय है कि इस जोहड़ के जीर्णोद्धार में गांव के बुजुर्गों से लेकर नौजवानों, माताओं, बहनों व बच्चों ने अपना सहयोग दिया। उन्होंने कहा कि इस जोहड़ से ग्रामीणों को काफी फायदा मिलेगा। इसमें न केवल साफ पानी एकत्रित होगा बल्कि इसका इस्तेमाल लोग खेतों में सिंचाई आदि के लिए भी कर सकेंगे। इसके आसपास के क्षेत्र का प्रयोग लोग सैर करने, घूमने फिरने तथा खेलकूद आदि के लिए भी कर सकेंगे।

गांव खेंटावास में आयोजित उद्घाटन समारोह में बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद ने अपने विचार रखते हुए कहा कि यह तालाब जल संचयन के लिहाज से अत्यंत महत्वपूर्ण है। लोगों को चाहिए कि वे इसके आसपास के क्षेत्र में साफ सफाई रखें और इसका उपयोग खेलकूद आदि के लिए करें। विकास पर बोलते हुए विधायक ने कहा कि यहां की महिलाओं को पढ़ाई के लिए गांव से दूर ना जाना पड़े इसके लिए मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल गांव खेंटावास को जल्द ही महाविद्यालय की सौगात देंगे। उन्होंने इस मौके पर ग्रामीणों को नववर्ष की शुभकामनाएं भी दी।

गुरुग्राम के उपायुक्त अमित खत्री ने इस मौके पर कहा कि यह जोहड़ सवा एकड़ भूमि में बनाया गया है ,जहां पर रोजाना लगभग डेढ़ लाख लीटर पानी साफ किया जाएगा। जोहड़ में पानी को साफ करने के लिए मशीनें आदि लगाई गई हैं। उन्होंने ग्रामीणों का आह्वान करते हुए कहा कि वे इस जोहड़ के रखरखाव में अपना सहयोग दें क्योंकि तैयार होने के बाद इसके रखरखाव की जिम्मेदारी अधिक महत्व रखती है। उन्होंने जोहड़ के जीर्णोद्धार में सहयोग देने वाले आईसीआईसीआई बैंक के अधिकारियों तथा हीरो मोटोकॉर्प कंपनी का विशेष रूप से धन्यवाद किया।

इस मौके पर जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी नरेंद्र सारवान ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया। गुरु जल परियोजना की डायरेक्टर शुभी केसरवानी ने बताया कि इस तालाब के जीर्णोद्धार पर लगभग ₹70 लाख की राशि खर्च की गई है। यहां 150 केएलडी क्षमता का अपशिष्ट जल प्रबंधन का प्लांट लगाया गया है। इसके आसपास के क्षेत्र में औषधीय पौधे जैसे -नीम ,शीशम, जामुन ,गुलमोहर, कचनार ,इमली, एलोवेरा ,तुलसी व बोगनवेलिया आदि लगाए गए हैं। इस जोहड़ के आसपास के क्षेत्र में री-साइक्लिंग की गई वस्तुओं का इस्तेमाल किया गया है। जोहड़ में एकत्रित होने वाले पानी का इस्तेमाल लोग सिंचाई तथा अन्य जरूरत के कार्य में कर सकेंगे।

इस अवसर पर बादशाहपुर के विधायक राकेश दौलताबाद, उपायुक्त अमित खत्री,एसडीएम पटोदी प्रदीप कुमार, जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी नरेंद्र सारवान, गुरु जल परियोजना की डायरेक्टर शुभी केसरवानी, बीडीपीओ सोहना परमिन्दर ,एक्सईएन सुदेश गिल, एसडीओ सुरेन्द्र गिल, जेई पवन कुमार, सरपंच रेनू, सुरजीत एसईपीओ, शालु साहनी चेयरमैन प्योर हार्ट एनजीओ ,विजय पंडित पातली, सतपाल नम्बरदार सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

अप्रैल से नवंबर, 2020 के दौरान प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आया 58.37 अरब डॉलर

आर्थिक विकास में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह बिना कर्ज लिए पूंजी जुटाने काएक महत्वपूर्ण स्रोतहै। सरकार का प्रयास रहा है...

केंद्रीय कृषि मंत्री ने वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम के सत्र को किया संबोधित

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण, ग्रामीण विकास, पंचायती राज और खाद्य प्रसंस्करण मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर बुधवार को वर्ल्ड इकॉनोमिक फोरम द्वारा आयोजित '...

12,351 करोड़ रुपये का अनुदान ग्रामीण निकायों को जारी

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग ने 18 राज्यों के ग्रामीण निकायों को 12,351.5 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। यह राशि वित्त वर्ष 2020-21 में जारी किए...

कैबिनेट ने सीजन 2021 के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य को मंजूरी दी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने 2021 सीजन के लिए कोपरा के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) को...

कला हमें जीवन की सही परख सिखाती है – मोहित मदनलाल ग्रोवर

युवाओं को कला के क्षेत्र में प्रशिक्षित करने में जुटी गुरुग्राम टैलेंटहंट द्वारा गणतंत्र दिवस के अवसर पर रविवार को सैक्टर 7...