Wednesday, January 20, 2021
16.1 C
Delhi

3 करोड़ से अधिक नल जल कनेक्शन जल जीवन मिशन के तहत प्रदान किए गए

Must read

मध्य प्रदेश पॉवर सेक्टर रिफॉर्म में निभा रहा है अग्रणी भूमिका

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग द्वारा पॉवर सेक्टर (बिजली क्षेत्र) में सुधारों के लिए बनाए गए मानदंडों को लागू करने में अग्रणी भूमिका निभाई...

प्रत्येक वर्ष 23 जनवरी को “पराक्रम दिवस” के रूप में मनाया जाएगा

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने आज यह घोषणा किया कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के अवसर...

केंद्रीय गृह मंत्री ने कर्नाटक के बागलकोट जिले में कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कर्नाटक के बागलकोट जिले में कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया। अपने दो दिन के कर्नाटक के...

रेलवे के माध्‍यम से उन इलाकों को जोड़ रहे हैं जो पीछे छूट गए थे : प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी कहा है कि देश के जिन क्षेत्रों से सम्‍पर्क स्‍थापित नहीं हो सका है और जो पीछे छूट गए...

15 अगस्त 2019 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से जल जीवन मिशन की घोषणा की थी जिसका उद्देश्य 2024 तक प्रत्येक ग्रामीण परिवार को कार्यात्मक घरेलू नल जल कनेक्शन (एफएचटीसी) प्रदान करना था। जल जीवन मिशन को राज्य सरकारों से साथ साझेदारी में अगस्त 2019 से लागू कर दिया गया था जिसका लक्ष्य नियमित और दीर्घकालिक आधार पर पर्याप्त मात्रा तथा निर्धारित गुणवत्ता में पीने योग्य पानी उपलब्ध कराना था। 15 अगस्त 2019 तक, 18.93 करोड़ ग्रामीण घरों में से 3.23 करोड़ (17 प्रतिशत) के पास नल जल कनेक्शन था।

इस साल (2020) के दौरान, सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों ने सभी घरों को नल जल कनेक्शन प्रदान करने के लिए ‘बॉटम-अप अप्रोच’ का पालन करते हुए विस्तृत योजना बनाई और उस योजना को सुदृढ़ किया। राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के अथक प्रयासों की मदद से जल जीवन मिशन ने अगस्त 2019 से अब तक 3 करोड़ नल जल कनेक्शन प्रदान किए हैं। इसके अतिरिक्त 26 जिले, 457 ब्लॉक, 34,919 पंचायत और 65,627 गांव ‘हर घर जल’ बन गए हैं अर्थात इन ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले प्रत्येक परिवार के घरों में नल के जल की आपूर्ति सुनिश्चित की जा रही है और कोई पीछे छूटा नहीं है। गोवा 100 प्रतिशचत एफएचटीसी और हर घर जल वाला देश का पहला राज्य बन गया है। विभिन्न राज्य ‘समानता और समावेशन’ के मूल सिद्धांत का पालन करते हुए देश के सभी घरों में पीने योग्य सुरक्षित पानी की पहुंच सुनिश्चित करने के लिए आपस में प्रतिस्पर्धा कर रहे हैं और तय लक्ष्य पर फोकस कर रहे हैं।

राज्य की प्राथमिकता में जल गुणवत्ता प्रभावित इलाकों, अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति, अधिकांश गांव, आकांक्षी जिले, सूखे के संभावित गांव और रेगिस्तानी क्षेत्रों तथा गुणवत्ता प्रभावित स्थान हैं। राज्य फ्लोराइड और आर्सेनिक से प्रभावित क्षेत्रों में जल्द से जल्द पाइप वाले जल की आपूर्ति सुनिश्चित करने की दिशा में काम कर रहे हैं।

पूरी दुनिया मार्च 2020 से अब तक कोविड-19 महामारी से लड़ रही है और ऐसे में जल जीवन मिशन की अब तक की यात्रा भी चुनौतियों और बाधाओं से भरी रही है। देश के ज्यादातर हिस्सों में लॉकडाउन के कारण सभी कामों पर बुरा प्रभाव पड़ा है और निर्माण कार्य भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। चूंकि इस दौरान हाथ धोना कोरोना से लड़ने का सबसे प्रमुख साधन बन गया है, इसका मतलब है कि अब घरों में पर्याप्त रूप से सुरक्षित और स्वच्छ जल की उपलब्धता और भी अधिक महत्वपूर्ण हो गई है। इसे प्रमुखता देते हुए और जीवन में बदलाव की भावना के साथ, राज्य सरकारों/केद्र शासित प्रदेशों ने सरकार द्वारा बताई गई सावधानियों के पालन के साथ जलापूर्ति का काम जारी रखा। कोविड-19 के बावजूद नियमित रूप से हो रहे काम, उनके अपने गांव खासकर घर वापस लौटे प्रवासी मजदूरों के लिए आजीविका पैदा करके स्थानीय अर्थव्यवस्था के लिए वरदान साबित हुए हैं।

जिस प्रकार केंद्र सरकार खाना पकाने वाली गैस, सामुदायिक शौचालयों और व्यक्तिगत घरों के निर्माण सरीखे कार्यों द्वारा विभिन्न वर्गों की महिलाओं के जीवन को बेहतर बनाने की दिशा में कार्य कर रही है, उसी प्रकार घरों में नल जल कनेक्शन का उद्देश्य उन युवा लड़कियों और महिलाओं के कठिन परिश्रम को कम करना और ‘जीवन को सुगम’ बनाना है जिन पर पब्लिक स्टैंड पोस्ट से पानी लाने और पानी की तलाश में लंबी दूरी तक चलने का बोझ होता है। घरों तक पानी की उपलब्धता करवाकर जल जीवन मिशन जीवन स्वास्थ्य मापदंडों में सुधार करके और स्कूल जाने वाले बच्चों के ड्रॉपआउट की संख्या कम करके जीवन पर कई तरीकों से असर डाल रहा है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

मध्य प्रदेश पॉवर सेक्टर रिफॉर्म में निभा रहा है अग्रणी भूमिका

वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग द्वारा पॉवर सेक्टर (बिजली क्षेत्र) में सुधारों के लिए बनाए गए मानदंडों को लागू करने में अग्रणी भूमिका निभाई...

प्रत्येक वर्ष 23 जनवरी को “पराक्रम दिवस” के रूप में मनाया जाएगा

संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने आज यह घोषणा किया कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के अवसर...

केंद्रीय गृह मंत्री ने कर्नाटक के बागलकोट जिले में कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कर्नाटक के बागलकोट जिले में कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया। अपने दो दिन के कर्नाटक के...

रेलवे के माध्‍यम से उन इलाकों को जोड़ रहे हैं जो पीछे छूट गए थे : प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी कहा है कि देश के जिन क्षेत्रों से सम्‍पर्क स्‍थापित नहीं हो सका है और जो पीछे छूट गए...

534 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग का एक सप्ताह में रिकॉर्ड निर्माण किया गया

सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय ने 8 जनवरी को शुरू हुए पिछले सप्ताह के दौरान 534 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग का निर्माण कर एक रिकॉर्ड...