Sunday, July 25, 2021
35.1 C
Delhi

संगीत मेरे लिए रब की इबाबत करने जैसा है – अवतार सिंह राणा

Must read

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

आज हम आपकी मुलाकात करवा रहे हैं एक ऐसे फनकार से जिनके प्राण बसते हैं ढोलक और तबले की थाप में, जी हां उनका नाम है अवतार सिंह राणा। वैसे आपको बता दें उन्हे राणा के नाम अधिक लोग जानते हैं बनिस्पत पूरे नाम के। उन्होंने बताया कि उनके पड़ोस में संगीत के शिक्षक पंडित लेख राज रहते थे तो उनके घर से ढोलक, तबले और हारमोनियम की संगीत लहरियां जब निकलती थीं तो बरबस ही उनको अपनी ओर आकर्षित कर लिया करती थीं।इसी के चलते उनका झुकाव संगीत के प्रति होने लगा। परिणाम ये रहा कि जो कुछ वो देखते सुनते उसी का अनुसरण खाली समय में स्कूल की टेबल पर किया करते और उनके इर्द गिर्द काफी छात्र इकट्ठे होकर गाना गाते और वो बजाते।उनकी लगन और पंडित लेखराज के दिशा निर्देश के चलते उनकी थाप ने अपना कमाल दिखाया और उन्हे सब से पहले रामलीला में अपना हुनर दिखाने का मौका मिला जिस पर वो खरे उतरे। धीरे धीरे वो जागरण व कई सांस्कृतिक समारोहों में अपनी इस संगीत कला के लिए पहचाने जाने लगे। नतीजा ये रहा कि वो एक स्थापित ढोलक व तबला वादक के रूप में अपनी सेवाएं देने लगे।कॉलेज के जोनल यूथ फेस्टिवल से आरंभ उनकी इस संगीत यात्रा में कई पड़ाव आए और गए जिसमें उनकी उपस्थिति में विभिन्न कॉलेजों में छात्रों ने कई पुरुस्कार भी अर्जित किए।

इसी कड़ी में उन्होंने कई नाट्य संस्थाओं के साथ शिमला सोलन व अन्य अखिल भारतीय नाट्य प्रतियोगिताओं को अपने संगीत से सजाया।गुरुग्राम के शुरुआती दौर में सभी नाट्य समूहों में विशेषकर संगीत आधारित नाटकों में अपनी संगीत कला की भूमिका को पूरी ईमानदारी से निभाया।अवतार सिंह राणा ने बताया कि उन्होंने कई नाटकों में संगीत में संगत कि जिनमे से सैंया भए कोतवाल, दो मसखरों की महारानी, भागवत अजुकम, पोस्टर, बकरी, कुमार स्वामी, बाबू भाई बिगड़ गए व कई और नाटक शामिल हैं।जब उनसे पूछा गया कि संगीत उनके लिए क्या है तो उन्होंने बताया कि संगीत रब की इबाबत करने जैसा है, उसकी पूजा करने का जरिया है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

चेतना स्कूल में समाज कल्याण बोर्ड ने लगाया वैक्सिनेशन कैंप

आज 4 जून को फैमिली काउंसलिंग सेंटर गुरुग्राम जो कि हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सौजन्य से चलाया जाता है के सहयोग...