Sunday, July 25, 2021
35.1 C
Delhi

श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय में हुआ ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम

Must read

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

श्री विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय, माननीय कुलपति राज नेहरू के गतिशील और सक्षम नेतृत्व में सफलता के मील के पत्थर छू रहा है। हाल ही में कौशल संकाय के एप्लाइड साइंसेज और मानविकी के तत्वावधान में विश्वविद्यालय ने महिंद्रा प्राइड क्लासरूम – नांडी फाउंडेशन के सहयोग से रोजगार कौशल पर ऑनलाइन प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम की शुरुआत में प्रो (डॉ) ऋषिपाल, डीन – एप्लाइड साइंसेज और मानविकी कौशल संकाय ने प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रतिभागियों को संबोधित किया। विभिन्न पाठ्यक्रम के शिष्यों, जैसे सार्वजनिक स्वास्थ्य, लोक सेवा, लोक कला बंचारी और मेडिकल लैब प्रौद्योगिकी के 80 से अधिक छात्रों ने इस बेहद आकर्षक सत्र में सक्रिय रूप से भाग लिया। कार्यशाला को श्री हेमंत कुमार सिंह और नितिका जैन द्वारा शानदार ढंग से होस्ट किया गया और डॉ मोहित श्रीवास्तव और डीआर राजेश्वरी द्वारा आयोजित किया गया। सॉफ्ट-कौशल, संचार कौशल, व्यक्तित्व विकास, सामाजिक कौशल, सुनने के कौशल और व्यावसायिक शिष्टाचार जैसे प्लेसमेंट शोधन के विभिन्न मापदंडों पर चर्चा की गई और उनका प्रदर्शन किया गया। प्रतिस्पर्धा के इस युग में ऐसे मौखिक और गैर-मौखिक कौशल छात्रों को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। किसी भी नौकरी का सबसे चुनौतीपूर्ण हिस्सा प्रभावी ढंग से संवाद करने के लिए पारस्परिक कौशल और भावनात्मक बुद्धि का उपयोग कर रहा है। लेखन और बोलने के माध्यम से संचार, भावनात्मक बुद्धिमत्ता, रचनात्मकता, कार्य नैतिकता, संगठन, और सहयोग सभी को मापने के लिए कठिन चीजें हैं (जैसा कि कठिन कौशल के विपरीत) लेकिन वे सभी एक चीज समान हैं: वे आपके साथ काम करने के लिए एक बेहतर मानव बनाते हैं और के लिये। इन सभी महत्वपूर्ण और मौलिक कौशल को छात्रों के लाभों के लिए परिष्कृत तरीके से विस्तृत किया गया। छात्रों को कार्यक्रम से खुशी हुई और उन्होंने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

चेतना स्कूल में समाज कल्याण बोर्ड ने लगाया वैक्सिनेशन कैंप

आज 4 जून को फैमिली काउंसलिंग सेंटर गुरुग्राम जो कि हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सौजन्य से चलाया जाता है के सहयोग...