Sunday, July 25, 2021
35.1 C
Delhi

छत्तीसगढ़ क्षेत्र में एमएसपी के तहत धान की खरीद

Must read

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

केंद्रीय पूल के तहत किसानों से धान की खरीद के लिए डीसीपी एवं गैर-डीसीपी दोनों ही राज्यों में भारत सरकार, राज्य सरकार और भारतीय खाद्य निगम के बीच एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए है।

डीसीपी राज्य के समझौता ज्ञापन के खंड संख्या-3 के अनुसार, ‘ऐसी स्थिति में जब राज्य एमएसपी से अधिक प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप में कोई बोनस/वित्तीय प्रोत्साहन दे रहा है और राज्य की कुल खरीद टीपीडीएस/ओडब्ल्यूएस के तहत भारत सरकार द्वारा किए गए राज्य के कुल आवंटन से अधिक है तो ऐसी अधिक मात्रा केन्द्रीय पूल के बाहर मानी जाएगी।’

शुरुआती लक्ष्य राज्य के साथ बनी सहमति पर आधारित सिर्फ अनुमान है और राज्यों से पूछा जा रहा है कि क्या वे प्रोत्साहन दे रहे हैं या नहीं। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ सहित कुछ राज्य प्रोत्साहन देते हुए पाए गए। इसलिए केन्द्रीय सरकारी खरीद को उस मात्रा तक सीमित कर दिया गया है, जिसकी पूर्व में बिना बोनस/प्रोत्साहन के खरीद की गई थी। केन्द्र सरकार एक समान नीति का अनुसरण कर रही है और देश के सभी किसानों की सहायता कर रही है। छत्तीसगढ़ खरीद में इसी का अनुसरण किया जा रहा है।

केएमएस 2020-21 के दौरान, छत्तीसगढ़ सरकार ने राजीव गांधी किसान न्याय योजना का विवरण देते हुए 17 दिसंबर 2020 को एक विज्ञापन/प्रेस विज्ञप्ति भी जारी की थी कि वे प्रति एकड़ 10 हजार रुपये के भुगतान द्वारा केएमएस 2020-21 के दौरान किसानों से प्रति क्विंटल 2,500 रुपये की दर से धान की खरीद करेंगे, जो कि एमएसपी से अधिक अप्रत्यक्ष प्रोत्साहन का ही एक रूप है, जो धान की खरीद पर एक प्रकार का बोनस है।

तद्नुरूप, केएमएस 2020-21 के दौरान केन्द्रीय पूल के तहत एफसीआई को 24 लाख मीट्रिक टन (एमटी) चावल की प्रदायगी की अनुमति दिए जाने का निर्णय लिया गया है, जो पूर्व वर्षों में अनुमति प्राप्त मात्रा के बराबर है।

- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

चेतना स्कूल में समाज कल्याण बोर्ड ने लगाया वैक्सिनेशन कैंप

आज 4 जून को फैमिली काउंसलिंग सेंटर गुरुग्राम जो कि हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सौजन्य से चलाया जाता है के सहयोग...