Sunday, July 25, 2021
35.1 C
Delhi

चमोली के बाढ़ प्रभावित इलाके में 200 फीट के एक बैली पुल का निर्माण

Must read

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

7 फरवरी, 2021 को उत्तराखंड के चमोली जिले में नंदा देवी के ग्लेशियर का एक हिस्सा टूट गया जिससे हिमस्खलन हुआ और अलकनंदा नदी प्रणाली में बाढ़ आ गई जिसमें हाइड्रोइलेक्ट्रिक स्टेशन बह गए और कई कर्मचारी फंस गए। गंगा नदी की बड़ी सहायक नदियों में शामिल धौली गंगा, ऋषि गंगा और अलकनंदा नदी में अचानक दिन में आई बाढ़ से इस उच्च पर्वतीय क्षेत्र में बड़े पैमाने पर तबाही हुई और भय का माहौल बना।

इस आकस्मिक बाढ़ में ऋषि गंगा हाइडल परियोजना के ठीक नीचे और तपोवन हाइडल परियोजना के लगभग दो किलोमीटर ऊपर जोशीमठ-मलारी रोड पर स्थित 90 मीटर में फैला आरसीसी पुल भी बह गया जो कि नीति सीमा तक पहुंचने का एकमात्र रास्ता था। इस पुल के बह जाने से उत्तराखंड के चमोली जिले के 13 से अधिक सीमावर्ती गांवों में लोग फंस गए हैं।

इस स्थिति में सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने बचाव और पुनर्वास के लिए 100 से अधिक वाहनों/उपकरणों और संयंत्रों के साथ तुरंत कार्रवाई शुरू की। इनमें पृथ्वी पर चलने वाले लगभग 15 भारी उपकरण शामिल हैं जैसे कि हाइड्रॉलिक उत्खनक, बुलडोजर, जेसीबी, व्हील लोडर्स आदि। सीमा सड़क संगठन ने भारतीय वायु सेना की मदद से भी महत्वपूर्ण हवाई उपकरणों को अपनी कार्रवाई में शामिल किया। प्रोजेक्ट शिवालिक के 21 बीआरटीएफ के लगभग 200 जवान इस बचाव और पुनर्वास कार्य के लिए तैनात किए गए हैं।

प्रारंभिक रेकी के बाद, बीआरओ ने सभी आवश्यक मोर्चों पर संपर्क पुनर्स्थापित करने के लिए कार्य शुरू कर दिया। दूर के किनारों पर खड़ी चट्टानों और दूसरी ओर 25-30 मीटर ऊंचे मलबे/ढेर के कारण यह स्थल काफी चुनौतीपूर्ण था। हालांकि बीआरओ ने इन चुनौतियों पर जीत हासिल कर ली है और चौथे दिन पुल के आधार-निर्माण के लिए रास्ता साफ कर लिया है। बीआरओ जल्द से जल्द 200 फीट बैली पुल को बनाकर दोबारा संपर्क स्थापित करने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहा है। बीआरओ बचाव अभियान में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की सहायता भी कर रहा है। बीआरओ की शिवालिक परियोजना की कई टीमें इस क्षेत्र में बचाव अभियानों के लिए तैनात हैं।


- Advertisement -

More articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest article

खराब निर्माण के चलते रवि नगर एक्स पार्क बना उजाड़

बरसात के समय प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी प्रशासन के सभी दावे धरे की धरे रह गए।जल भराव हो या...

अभिनय के एक दुनिया की विदाई है ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार का निधन

ट्रेज़डी किंग दिलीप कुमार उर्फ मोहम्मद यूसुफ खान 98 वर्ष की आयु में भारतीय सिनेमा अपने अभिनय अमिट छाप छोड़ने वाला...

जेजीपी महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण का गुरुग्राम रेस्ट हाउस में भव्य स्वागत

गुरुग्राम, 26 जून। शनिवार को जननायक जनता पार्टी की महिला प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण गुरुग्राम पहुंची। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के रेस्ट हाउस...

परिवार परामर्श केंद्र व रोटरी क्लब द्वारा रक्तदान शिविर का किया गया आयोजन

आज परिवार परामर्श केंद्र गुरुग्राम के द्वारा हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सहयोग से रोटरी क्लब में ब्लड डोनेशन कैंप का...

चेतना स्कूल में समाज कल्याण बोर्ड ने लगाया वैक्सिनेशन कैंप

आज 4 जून को फैमिली काउंसलिंग सेंटर गुरुग्राम जो कि हरियाणा समाज कल्याण बोर्ड के सौजन्य से चलाया जाता है के सहयोग...