फरीदाबाद की गौ शालाओं मे गौ माताओं का मरना बदस्तूर जारी

0
184

कहने को तो हरियाणा सरकार ने गौ रक्षा कानून बनाया हुआ है जिसमे गौ हत्या पर कड़ी सजा का प्रबंध हैं। पर जमीनी सच्चाई इससे काफी दूर है। गौ रक्षा के नाम पर सिर्फ गुंडा गर्दी ही हो रही है। इस कानून के तहत प्रशासन पर क्या कार्यवाही होती है ये अलग बात है पर ताजा मामले के अनुसार प्रशासन द्वारा चलायी जा रही गौशालाओं मे गौ धन का मरना बदस्तूर जारी है। फ़रीदाबाद से किशोर शर्मा के अनुसार “कडकती ठंड और भूख से इन गायों की मौत हो रही है चारे की स्थिति भी दयनीय है पराली का सडा हुआ भूसा खाकर मरने के लिए मजबूर है ये गौ माताये।

   स्थिति इतनी बदतर है कि छत के लिये शेड डाल दिये गये है साईडे खाली है जिससे ठंडी हवाएं नही रुक पाती। प्रशासन इस और से उदासीन बना हुआ है ज्यादा से ज्यादा एक डाक्टर भेज कर रिपोर्ट बनाई और इति श्री। आज से पहले कभी इतनी बडी संख्या मे गौ धन की मौतें नही हुई। प्रशासन स्पष्ट निर्देश जारी करे गौशाला मे आने वाली हर गौ धन का रिकॉर्ड हो। मरने वाली गाय का पोस्टमार्टम के बाद ही संस्कार हो। सरकार की तरफ से और दूसरे लोगों से मिलने वाले अनुदान का हिसाब रखा जाये। और समय समय पर इसका आडिट भी हो। गौ संवर्धन के नाम पर जारी करोडों रुपये की पाई पाई का हिसाब हो ।गौ सेवा के नाम पर बने सरकारी बोर्डों की सार्थकता भी परखी जाये जो सिर्फ नाम के रह गये है।”

LEAVE A REPLY