सिक्ख समाज के लिए करतारपुर कॉरिडोर को पाकिस्तान से वापस ले हिंदुस्तान: निहाल सिंह धारीवाल

0
8

गुडग़ांव || पूरे भारत में उत्साहपूर्वक मनाए जा रहे गुरु नानक देव के 550वें प्रकाश दिवस उत्सव के क्रम में गत 2 जून से कर्नाटक से शुरु हुई समूह साध संगत यात्रा के मंगलवार को तावड़ू पहुंचने पर यहां गुरुद्वारा प्रबंधन कमेटी व समूह संंगत द्वारा श्रद्धा के साथ स्वागत किया गया। इस दौरान लोगों ने गुरु नानक देव के आदर्शों को आत्मसात करने का संकल्प लिया। उन्होंने बताया कि यह यात्रा सोहना व तावड़ू होते हुए मंगलवार को भिवाड़ी के लिए रवाना हो गई। यात्रा टपुड़ा किशनगंज होते अलवर पहुंचेगी। यात्रा के स्वागत के दौरान किसान नेता, समाजसेवी व वरिष्ठ अधिवक्ता निहाल सिंह धारीवाल भी सिक्ख समाज के लोगों के साथ मौजूद रहे और उन्होंने भी प्रेमभाव के साथ यात्रा का स्वागत किया। इस दौरान उपस्थित लोगों के बीच गुरु नानक देव जी के आदर्शोंं पर प्रकाश डालते हुए निहाल सिंह धरीवाल ने कहा कि गुरु नानक देव समामाजिक आडम्बरों के विरोधी थे।

उन्होंने आत्मिक जन्म के लिए जनेऊ धारण करने व पितरों को भोजन कराने आदि समाजिक रीतियों का विरोध किया। उनका मानना था कि हमें जीते जी अपने माता पिता की सेवा करनी चाहिए। मरने के बाद उनके लिए कुछ करने का कोई लाभ नहीं। इसी तरह से उन्होंने धार्मिक बंटवारे का भी विरोध किया। उन्होंने कहा था कि सभी बंदे ईश्वर की संतान हैं। ना तो हिन्दू कहलाने वाला रब की निगाह में कबूल है और ना ही मुसलमान कहे जाने वाला। ईश्वर की निगाह में वहीं बंदा ऊंचा है जिसका आचरण अच्छा हो और उसके इरादे नेक हों। उनका सिद्धांत रहा कि धन-लालसा, काम और क्रोध को त्याग करना सबसे बड़ा तीर्थ है। निहाल सिंह ने कहा कि गुरु नानक देव के विचार आज भी हमारे लिए अत्यंत प्रेरणा के स्रोत हैं। उनके आदर्शोंं से समाज के हर वर्ग के लोगों को सीख लेनी चाहिए। धारीवाल ने कहा कि गुरु नानक देव प्रकाश दिवस के अवसर पर भारत सरकार को पहल करते हुए वाघा बॉर्डर से 15 किलोमीटर करतार कॉरिडोर को पाकिस्तान से वापस लेकर सिख समाज के लोगों के लिए समर्पित कर देना चाहिए| स्वागत के दौरान रणजीत सिंह खालसा, सतनाम सिंह, रेशम सिंह, जोगिंदर सिंह, रमेश सिंह, सुरजीत सिंह, अमरजीत सिंह, सुरेन्द्र सिंह, ज्ञानी मुख्तियार सिंह, गुरमीत कौर खालसा, रतन कौर, माया कौर, गुरु की बिडाली बाबा, बीरा सिंह, बाबा काला सिंह, सेवक सिंह, नूरा सिंह, हरनेक सिंह आदि काफी संख्या में लोग मौजूद रहे और सभी ने यात्रा का स्वागत किया।

LEAVE A REPLY